ugandaschoolforthedeaf.org
Essay or dissertation on benefit associated with charge surge on widespread boyfriend
ugandaschoolforthedeaf.org ×

Papa Johns Essay

Guru nanak jayanti essay writing

गुरु नानक देव जी अपने सुख और शान्ति के उपदेशों को लोगों तक पहुंचाने के लिए देश-विदेश गए । सबसे पहले ऐमनाबाद जाकर भाई लालो बढ़ई के घर ठहरे और वहाँ से हरिद्वार, दिल्ली, गया, काशी और जगन्नाथपुरी does standardized testing improve education essay गए ।उपदेश8211; उनके उपदेशों में ऐसा चमत्कार था कि सभी वर्गों के लोग उनके शिष्य बन जाते थे । उनके शिष्यों की उन पर बड़ी श्रद्धा थी । उनके उपदेश की भाषा सीधी-सादी और शैली सरल थी । यही कारण था कि अनेक उपदेशों को लोग सिर झुकाकर स्वीकार करते थे । गुरु नानक देव जी ने हिन्दू मुसलमान, बौद्ध, जैन, ईसाई आदि सभी धर्मों के तीर्थ स्थानों का भ्रमण किया था । वहां उन्होंने एक सत करतार को भजने progressive era dbq essays उपदेश दिया और विभिन्न धर्मावलम्बियों को प्रभावित किया । सभी धर्मों के लोग उनके शिष्य बन गये ।देश-विदेश भ्रमण8211; दक्षिण में सेतुबन्ध, रामेश्वरम् तथा सिंह द्वीप उगदि स्थानों में जा कर अपना सन्देश दिया । वहा, से लौटकर गढ़वाल, हेमकुंड, टिहरी, सिरमौर, गोरखपुर, सिक्किम, essays examined life और तिब्बत आदि की title 10 us code essay की । उसके बाद बलोचिस्तान होते हुए मक्के तक पहुंचे । इस यात्रा के मध्य उन्होंने ईरान, कन्धार, काबुल और बगदाद आदि में सतनाम का उपदेश दिया । उन्होंने बताया कि परमपिता परमात्मा की इच्छा से विश्व के समस्त कर्म चलते हैं । इसलिए छुआछूत . ਸਿੱਖ ਧਰਮ ਦੇ ਬਾਨੀ ਗੁਰੂ ਨਾਨਕ ਜਾਂ ਗੁਰੂ ਨਾਨਕ ਦੇਵ ਜੀ ਨੂੰ 15 ਅਪ੍ਰੈਲ 1469 ਨੂੰ ਪਾਕਿਸਤਾਨ ਦੇ ਮੌਜੂਦਾ ਸ਼ੇਖੂਪੁਰਾ ਜ਼ਿਲੇ ਵਿਚ ਰਾਏ-ਭੋਈ-ਦੀ ਤਲਵੰਡੀ ਵਿਚ ਪੈਦਾ ਹੋਇਆ ਸੀ, ਜਿਸ ਨੂੰ ਹੁਣ ਨਨਕਾਣਾ ਸਾਹਿਬ ਦੇ ਨਾਂ ਨਾਲ ਜਾਣਿਆ ਜਾਂਦਾ ਹੈ.

Continue reading
429 words, 6 pages